Please be follower

SWAGATM ,SWAGTM AAPKA SHUBH SWAGTM



Pages

Thursday, February 3, 2011

aao kuch apni bhi kah doon

आओ कुछ अपनी भी कह दूँ ----
आज मैने  सोचा
उनको भ्रष्ट कैसे कहूं ----
मै भी तो देर से कार्यालय आता हूँ..
जब भी कोई बिल पास होता है तो
तयशुदा कमीसन मै भी तो लेता हूँ
अभी कल उसके म्रतक आश्रित दावे का
 निपटान होना था
उसे बुलाया गया था
उसके आर्थिक विपदावों से छुडाया गया था .
जब उसने कुछ शुकराना देना चाहा
तो मेरी  आत्मा ने मुझे धिक्कारा
प्यार से पुचकारा.------
कुछ ले लेने के लिए दुलराया
किन्तु
जब हम उन्नेहे भ्रष्ट कहते हैं
तो हम अपने भी दिल में झाकते हैं
इसीलिए हम सदैव भ्रष्ट आचरण से दूर भागते हैं.
आइये आप भी ऐसा ही कुछ कीजिये
भ्रस्ताचार को  नेस्तनाबूद   कीजिये


 

2 comments:

शालिनी कौशिक said...

sahi kah rahe hain aap doosron ko kuchh kahne se pahle hame apne me sudhar karna hoga aur lalach jo ham me hai ko door kar apne kartavya ko pahchanna hoga.jo kam sahi hai vahi karna hoga.

शालिनी कौशिक said...

please comment me jakar word verification hata deejiye.setting >comment>word verification.
comment dene me asuvidha hoti hai.